Home हमारी नीति

हमारी नीति

by क़िंदील

क़िंदील ” के उजाले को फैलाने में हमें आपके समर्थन की आवश्यकता है, इसलिए, लेखक अपने लेख qindeelonline@gmail.com पर भेज सकते हैं, लेकिन इस संबंध में कुछ बातों को ध्यान में रखें:

(1) लेख इनपेज या यूनिकोड संस्करणों में भेजे जा सकते हैं।
(2) लेख बोदा नहीं होना चाहिए,अपने विषय पर भरपूर हो।
(3) कॉपी-पेस्टेड लेखन कभी न भेजें। हमारा मानना है कि साहित्यिक चोरी एक नीच हरकत है। लेखन किसी भी व्यक्ति के विचारों और उसकी अभिव्यक्ति का दर्पण है। अगर कोई चोरी करके अपने नाम से छपवाता है तो वह उसकी बौद्धिक पूंजी को लूटता है और अपना नाकारापन ज़ाहिर करता है।
(4) समाचार या लेख आदि भेजने के बाद बार-बार फोन या टेक्सट करके परेशान न करें । जो लेख हमारे पास आते हैं, उन्हें पहले पढ़ा जाता है, फिर उन्हें एडिट करके प्रकाशित किया जाता है, यदि आपकी रचना ठीक ठाक है तो निश्चित रूप से प्रकाशित की जाएगी।
(5) खुले वातावरण में किसी भी वैज्ञानिक, बौद्धिक, साहित्यिक या सामाजिक विषय पर चर्चा “क़िंदील” का एक महत्वपूर्ण उद्देश्य है; इसलिए, ऐसे किसी भी विषय पर, यदि विभिन्न विचारों को विनम्र तरीके से तर्कों के साथ प्रस्तुत किया जाता है, तो “क़िंदील” उनका स्वागत करेगी।

(6) यह बताना भी महत्वपूर्ण है कि “क़िंदील” एक स्वतंत्र वेबसाइट है, न कि किसी व्यक्तिगत संगठन का प्रवक्ता। यहां प्रकाशित लेख, विश्लेषण और विचार लेखक के विचारों को व्यक्त करते हैं, जरूरी नहीं कि “क़िंदील ” उनके साथ सहमत हो।
(7) राजनीतिक, सामाजिक, बौद्धिक, साहित्यिक और धार्मिक लेखों के अलावा, कथा, कहानियों, उपन्यासों, ग़ज़लों और नए प्रकाशनों पर लिखी गई टिप्पणियाँ भी प्रकाशन के लिए भेजी जा सकती हैं। नई पुस्तकें तबसेरे के लिए भी भेजी जा सकती हैं,पुस्तक की दो प्रतियाँ भेजना आवश्यक होगा।