Home विशेष कॉलम आंखों के साहिलों पे है अशकों का इक हुजूम शायद ग़मे हुसैन का मौसम करीब है।-आरिफ़ा मसूद अंबर